Advertisement
Tuesday, April 16, 2024
होमइनसाइटएक्सपर्ट कॉर्नरस्टार्टअप (Startup) के लिए फंडिंग कैसे प्राप्त करें 2023 में

स्टार्टअप (Startup) के लिए फंडिंग कैसे प्राप्त करें 2023 में

स्टार्टअप (Startup) के लिए फंडिंग कैसे प्राप्त करें 2023 में

आप सबको पता है की स्टार्टअप (Startup) के लिए सबसे मुश्किल काम होता है फंडिंग का आमतौर पर अगर स्टार्टअप में दम हो तो कोई भी है फंडिंग आसानी से मिल जाती है लेकिन कभी-कभी फंडिंग नहीं मिल पाती है।

हाल ही में भारत सरकार द्वारा स्टार्टअप के लिए सीड स्टेज पर काफी बढ़िया योजनाओं के द्वारा फंडिंग दी जा रही है तरह-तरह के आयोजनों के द्वारा और स्कीमों के द्वारा स्टार्टअप्स के लिए फंडिंग दी जा रही है।

यह भी पढ़े – मिलिए सोशलप्रेन्योर नेहा गुप्ता (Neha Gupta) से | मंगलमप्लस मेडिसिटी मंगलम बिल्डर्स की एक इकाई है

स्टार्टअप के लिए फंडिंग प्राप्त करने के तरीके-

  • सरकारी योजनाओं के तहत लोन
  • बैंकों द्वारा लोन
  • बिजनेस क्रेडिट कार्ड फॉर स्टार्टअप
  • स्टार्टअप इंडिया बीज निधि योजना
  • प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY)
  • इन्क्यूबेटर सेंटरों से स्टार्टअप फंड

सरकारी योजनाओं के तहत लोन

आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग (DPIIT) ने सीजीएसएस का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है. इसके तहत कमर्शियल बैंक, नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनी (NBFC) या वैकल्पिक निवेश फंड (AIF) से लोन पर सरकार गारंटी देगी

और पढ़े – होमवर्सिटी (Homversity) 100+ शहरों और नए क्षेत्रों में विस्तार करेगी

बैंकों द्वारा लोन

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक,निजी क्षेत्र के बैंक,राज्य संचालित सहकारी बैंक,क्षेत्रीय क्षेत्र के ग्रामीण बैंक,सूक्ष्म वित्त प्रदान करने वाले संस्थान बैंकों के अलावा अन्य वित्तीय कंपनियो के द्वारा स्टार्टअप (Startup) के लिए फंडिंग दी जाती हैं।  

यह भी पढ़े: कैसे NIT राउरकेला के पूर्व छात्र पर्सनल और प्रोफ़ेशनल डेवलपमेंट को नया स्वरूप दे रहे हैं | FailTell

बिजनेस क्रेडिट कार्ड फॉर स्टार्टअप

आजकल एक स्टार्टअप शुरू करना और चलाना बहुत मुश्किल होता है,लेकिन आज की आधुनिक दुनिया में, कई ऐसे लोग हैं जो अपना स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं। वो  भारत में उपलब्ध कई अच्छे क्रेडिट कार्डों में से एक का उपयोग करके अपने स्टार्टअप को आसान बना सकते हैं। इनमें से अधिकतर कार्ड विशेष रूप से स्टार्टअप और कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए तैयार किए गए हैं और खर्च आंकड़ों और ग्राफों पर नजर रखते हैं।

स्टार्टअप क्रेडिट कार्ड व्यवसायों और निगमों को खर्च को सुव्यवस्थित करने और विभिन्न व्यावसायिक-विशिष्ट लाभों का लाभ उठाने में सहायता करते हैं। आज के  दौङ में, विभिन्न बैंक स्टार्टअप क्रेडिट कार्ड प्रदान करते हैं जो कई फायदों के साथ आते हैं। 2023 में इन क्रेडिट कार्ड का उपयोग करने के लाभो का आनंद लें।

स्टार्टअप इंडिया बीज निधि योजना

अवधारणा के प्रमाण, प्रोटोटाइप विकास, उत्पाद परीक्षण, बाजार में प्रवेश और व्यावसायीकरण के लिए स्टार्टअप्स को वित्तीय सहायता रुपये तक की वित्तीय सहायता।  इन्क्यूबेटरों के माध्यम से वें को 50 लाख प्रदान किए जाएंगे।  के लिए 945 करोड़ रुपये का आवंटन। DPIIT (आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग) ने स्टार्टअप्स को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए INR 945 करोड़ के परिव्यय के साथ स्टार्टअप इंडिया सीड फंड स्कीम (SISFS) बनाई है।

अवधारणा के 168 प्रमाण, प्रोटोटाइप विकास, उत्पाद परीक्षण, बाजार में प्रवेश और व्यावसायीकरण। यह 300 के माध्यम से अनुमानित 3,600 उद्यमियों का समर्थन करेगा।  अगले 4 वर्षों में इनक्यूबेटर।

यह भी पढ़े: कॉलेज छात्रों ने ‘फ्लाइनोवेट (Flynovate) स्टार्टअप से सोलर इंडस्ट्री के लिए ड्रोन के रूप में विकसित की एक नई तकनीक

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY)

लाभार्थी सूक्ष्म इकाई/उद्यमी की वृद्धि/विकास और वित्त पोषण की जरूरतों को दर्शाने के लिए योजना के तहत लाभों को ‘शिशु’, ‘किशोर’ और ‘तरुण’ के रूप में तीन श्रेणियों के तहत वर्गीकृत किया गया है।

  • शिशु: रुपये तक के ऋण को कवर करना। 50,000/-
  • किशोर: रुपये से ऋण को कवर करना। 50,001 से रु. 5,00,000/-
  • तरुण: रुपये से ऋण को कवर करना। 5,00,001 से रु. 10,00,000/-

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) भारत सरकार की एक प्रमुख योजना है। यह योजना रुपये तक के माइक्रो क्रेडिट / ऋण की सुविधा देती है। विनिर्माण, प्रसंस्करण, व्यापार या सेवा क्षेत्र में गैर कृषि क्षेत्र में लगे सूक्ष्म उद्यमों को आय पैदा करने वाले सूक्ष्म उद्यमों के लिए 10 लाख। MUDRA सूक्ष्म और लघु संस्थाओं की गैर-कॉरपोरेट, गैर-कृषि क्षेत्र की आय-अर्जक गतिविधियों को ऋण देने के लिए वित्तीय मध्यस्थों का समर्थन करता है।

इन्क्यूबेटर सेंटरों से स्टार्टअप फंड

इनक्यूबेटर्स केवल पात्र स्टार्टअप्स के लिए अनुदान इस्तेमाल करेंगे और अनुदान का इस्तेमाल सुविधा निर्माण या अन्य खर्च के लिए नहीं किया जाएगा। इनक्यूबेटर्स फंड अनुदान के 5% की दर से प्रबंधन शुल्क के गठन का प्रावधान किया गया है (अर्थात यदि किसी इनक्यूबेटर को 1 करोड़ रुपए का सीडफंड दिया जाता है तो 5% की दर से प्रबंधन शुल्क को मिलाकर कुल सहायता 1 पॉइंट जीरो 50 करोड़ रुपए होगी)

इनक्यूबेटर्स को दिए जाने वाले प्रबंधन शुल्क का इस्तेमाल इनक्यूबेटर्स द्वारा सुविधा निर्माण या किसी अन्य प्रशासनिक खर्च के लिए नहीं किया जाएगा इनक्यूबेटर्स को निधि की पहली किस्त की प्राप्ति की तारीख के 3 वर्ष की अवधि के भीतर अनुदान का पूरा इस्तेमाल करना चाहिए।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments